ग़लतफ़हमी

*बिकती है ना कहीं खुशी
ना कहीं गम बिकता है…*_
_*लोग ग़लतफ़हमी में हे,
की शायद कहीं मरहम बिकता हे……*

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *