मिज़ाज का परिन्दा

खुदा ने लिखा ही नहीं तुझको
मेरी किस्मत में शायद
वरना खोया तो बहुत कुछ था
एक तुझे पाने के लिए



*न जाने किस मिज़ाज का परिन्दा है यह दिल…*
*सीने मैं तो रहता है मगर वश में नहीं…!!*❤?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *