तारे रोशन

| तारे रोशन |


एक-एक करके हुए जाते है तारे रोशन |
मेरी मंजिल की तरफ तेरे कदम आते है |
दिल में अब यूं तेरे भूले हुए गम आते है |
जैसे बिछुड़े हुए काबे में सनम आते है |
रक्से-मय तेज करो, |
साज की लय तेज करो |
सूए-मैख़ाना सफीराने-सफर आते है |

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *