मोहब्बतों में ज़रा सी कसक ज़रूरी है

SAD SHAYARI | मोहब्बतों में ज़रा सी कसक ज़रूरी है | ROMANTIC SHAYARI


मोहब्बतों में ज़रा सी कसक ज़रूरी है
शिकायतों के गुलों की महक ज़रूरी है
कोई सवाल करूँ मैं तुमसे तो नाराज़ मत होना जान
क्यों की सच्चे प्यार में थोड़ा सा शक़ ज़रूरी है
*****
अपनी मुहब्बत की हकीकत को मन में परखना ज़रूरी है
न बिखर जाए किसी के सपने ये भी समझना ज़रूरी है
ये सच है की धुप को सह कर के कोई रिश्ता पनपता है
मगर नन्हे पौधे को भी संभाले रखना ज़रूरी है
*****
दूर रहते है दिलो में रहकर, जाने ये कैसे कमाल करते है
खुद भी मायूस रहते है और हमें भी इतना बेहाल करते है
उन्हें यकीन नहीं होता, मेरी हर बात पे सवाल करते है
किसी के साथ देखें भी तो ये पल भर में बवाल करते है



हम नहीं मिले आखिर तो क्या मेरा सरोकार रहा है तुमसे

हम नहीं मिले आखिर तो क्या मेरा सरोकार रहा है तुमसे


हम नहीं मिले आखिर तो क्या मेरा सरोकार रहा है तुमसे
तुम्हे यकीन हो न हो हमारे दिल को प्यार रहा है तुमसे
*****
तुम पाना जो चाहो तो मैं दूर नहीं,
जो लौट के न आ सकू, इतना मजबूर नहीं
तुमसे ज्यादा हो सके वो रौशन,
कहीं ऐसा भी कोई हूर नहीं
बरसो बीते जीवन में, ऐतबार मेरा तो रहा है तुमसे
****
हम नहीं मिले आखिर तो क्या मेरा सरोकार रहा है तुमसे
तुम यकीन हो न हो हमारे दिल को प्यार रहा है तुमसे
****
तनहा ही अब मैं निकल पड़ा हूँ
अपनों की खुशियों को लिए खड़ा हूँ
नाता तोड़ लो मुलाकात का हमसे
मांग रहा क़ुरबानी तुमसे
मुझको वापस पाओगे तुम, ज़रा भी सच्चा दिल रहा है तुमसे
****
हम नहीं मिले आखिर तो क्या मेरा सरोकार रहा है तुमसे
तुम्हे यकीन हो न हो हमारे दिल को प्यार रहा है तुमसे
****

एक नज़र, शायरी का हुनर

एक नज़र, शायरी का हुनर


हर नज़र को एक नज़र की की तलाश है,
हर दिल में छुपा एक एहसास है
आप से प्यार युही नही किया हमने
क्या करे हमारी पसंद ही कुछ ख़ास है
—-***—-
ना जाने ये कौन सा तरीका हैं… उनका प्यार करने का…!!!
कि उनका दिल ही नहीं करता मुझसे बात करने का…!!!
—-***—-
इंतज़ार में यह नज़रें झुकी हैं
तेरा दीदार करने की चाह जगी है
न जानूँ तेरा नाम, न तेरा पता
फिर भी न जाने क्यों इस पागल दिल में
एक अज़ब सी बेचैनी जगी है
—-***—-
शायरी का हुनर हम भी रखते हें
पर अपने शब्दों से कसी को बदनाम करना हमे आता नही
—-***—-
उसका शुक्रिया कुछ इस तरह से अदा करूँ
वो करे बेवफाई और मैं सदा वफ़ा करूँ
मेरी मोहोब्बत ने बस इतना सिखाया मुझे
खुद मिट जाऊं पर उसके लिए दुआ करूँ
—-***—-
ऐ जिंदगी मुझे कुछ मुस्कराहटे उधार दे दे,
अपने आ रहें हैं मिलने की रस्म निभानी है
—-***—-
कुछ नशा तेरी बात का है,
कुछ नशा धीमी बरसात का है,
हमे तुम यूँही पागल मत समझो,
ये दिल पर असर पहली मुलाकात का है!!
—-***—-

एक ग़ज़ल, कुछ ख़त, गेरो की मोहबत, गम की वजह

एक ग़ज़ल, कुछ ख़त, गेरो की मोहबत,
गम की वजह, कल की किताब


?एक ग़ज़ल? तेरे लिए ज़रूर लिखूंगा;??बे-हिसाब उस में ??तेरा कसूर लिखूंगा;???टूट गए ❤बचपन के ??तेरे सारे खिलौने;✋??अब दिलों ???से खेलना तेरा ?✋✌??दस्तूर लिखूंगा।???✋?


???न जाने ???कैसे ?आग लग??? गई बहते?? हुये पानी में..???हमने तो ?✌✋बस कुछ✋?? ख़त बहाये थे, ??✌“उसके नाम के“…??✌


???मजा चख लेने ??दो उसे गेरो ??की मोहबत? का भी, ???इतनी ?चाहत के ?✌?बाद ?जो मेरा न ?✌?हुआ ?वो ओरो का ?✋✌क्या होगा।???


???जानते हो ??महोब्बत किसे ?कहते हैं ??✋?? किसी को ?सोचना,??✋? फिर मुस्कुराना?? और फिर आसू ???बहाते हुए ???सो जाना.????


???वो बड़े ताज्जुब से??✋ पूछ बैठा मेरे ???गम की वजह..????फिर हल्का सा ???मुस्कराया,? और कहा,?✌? मोहब्बत की ??थी ना… ??✋???


???✋क़ाश कोई? ऐसा???? हो, जो? गले लगा??✌ कर कहे…???!! तेरे दर्द से मुझे✋?? भी तकलीफ ✋?होती है???


???आँसू आ जाते हैं??✌ आँखों में पर ??लबों पर??? हंसी लानी पड़ती है?✌? ये मोहब्बत ??भी क्या??? चीज़ है यारो जिस से?❤ करते हैं ???उसी से छुपानी??? पड़ती है।????


?✌?याद आयेगी ??हमारी तो बीते ???कल की किताब ✋???पलट लेना यूँ ही ???किसी पन्ने पर मुस्कुराते ????हुए हम ?मिल जायेंगे।??❤?

नज़र आ जाओ कही तुम

नज़र आ जाओ कही तुम


मेरी आँखों में जैसे बस रहे, एक सपने से हो तुम!
देख के तुम को लगता है, कितने अपने से हो तुम !!
हमे होश नहीं रहता, जो नज़र आ जाओ कही तुम !
दुनिया से चुरा ले हम तुमको, हो जाये कही गुम !!

हर अदा तुम्हारी हम पर जादू सा कर रही है
पलकों की छांव में कोई जैसे शाम ढल रही है
मुस्कान पर तुम्हारी जैसे लहरें फिसल रही है
देख तुम्हारे गालो की लाली, हसरत मचल रही है

काले बालो में घेरे हुवे हो न जाने कितनी रात तुम !
देख के तुम को लगता है, कितने अपने से हो तुम!!
हमे होश नहीं रहता, जो नज़र आ जाओ कही तुम,!
दुनिया से चुरा ले हम तुमको, हो जाये कही गुम !!

तेरी हंसी के वास्ते मै  हर चीज़ वार दूं
सारे जहाँ की खुशियों से जीवन सवार दूं
जो कभी न भूल पाए तुम्हे उतना प्यार दूं
तुझसे मोहब्बत कर तेरा यौवन निखर दूं

मेरा जीवन तुमसे रौशन मेरी हर एक बात में तुम !
देख के तुम को लगता है, कितने अपने से हो तुम!!
हमे होश नहीं रहता, जो नज़र आ जाओ कही तुम!
दुनिया से चुरा ले हम तुमको, हो जाये कही गुम!!

तेरा दीदार नहीं मिलता

तेरा दीदार नहीं मिलता


एक अरसा हुआ तेरी आगोश में खुद को खोये हुवे,
मगर न जाने कई सालो से हमें तेरा दीदार नहीं मिलता
रोज़ होती है कहने को तुमसे मेरी मुलाकातें,
मगर मेरी नज़र को तेरी नज़र से अब वो ऐतबार नहीं मिलता
मिलने को मिलते है ख्वाबो में तुझसे जोशो खरोश से,
मगर फिर भी मेरी बेचैन धड़कनो को ज़रा भी करार नहीं मिलता
ढूंढ़ता रहता हूँ हर लम्हा,
पर वो प्यार नहीं मिलता,
तेरी तस्वीर में हमें अब वो
खोया संसार नहीं मिलता

इश्क की तालीम

इश्क की तालीम

इस इश्क की तालीम ने भी हमें, क्या खूब सिला दिया है
जिसकी याद में जी भी न पाए, उसी ने हमको दिल से भुला दिया है |
कुछ इस कदर साथ रखा है यादों ने उनकी के अकेले होने नहीं देते
हम याद करते है उन्हें इतना की हिचकी से सोने नहीं देते |
अब तो कमी हो गयी है आंसू की गेम मोहब्बत में रट रट
कोई जगा दे जाके उनको भी सुबह हो गयी है उनके सोते सोते |
हर लम्हा उनसे मिलान के हमें इंतज़ार रहा करता है
हमें सत्ता कर के न जाने क्या उन्हें शबे बहार मिलता है |
क्या मेरी पलकों के बरसना ज़रूरी है ऐतबार की खातिर
क्या काफी नहीं पैगाम पहुंचे उस तक मेरी शायरी के ज़रिये |
क्या उम्मीद करे जीवन से नाराज़ है दिल से धड़कन
क्या बताओं तुझको कैसी है मेरे दिल की तड़पन |
ये मेरे जज़्बात की रुस्वाई है या उनका भोलापन की मुझे वफाओं का सिला नहीं है
क्या वजह हुई है जो उनकी खामोश ज़िन्दगी से कोई जवाब अभी तक मिला नहीं है

Share on Whatsapp

तारे रोशन

| तारे रोशन |


एक-एक करके हुए जाते है तारे रोशन |
मेरी मंजिल की तरफ तेरे कदम आते है |
दिल में अब यूं तेरे भूले हुए गम आते है |
जैसे बिछुड़े हुए काबे में सनम आते है |
रक्से-मय तेज करो, |
साज की लय तेज करो |
सूए-मैख़ाना सफीराने-सफर आते है |

मेरा प्यार अभी बाक़ी है

मेरा प्यार अभी बाक़ी है


मेरी ज़िन्दगी में उसका इंतज़ार अभी बाक़ी है ||
उसने मुँह मोड़ा मेरा प्यार अभी बाक़ी है ||
मेरी उलझन की वजह मेरी वफ़ा है ||
शिद्दत से की मोहब्बत ये उसकी सजा है ||
पहली मोहब्बत में ये पहली खता की है ||
उस ज़ालिम से उम्मीद ए वफ़ा की है ||
वह खुश रहे ये इल्तेजा की है ||
उसके खुश रहने की रब से दुआ की है ||
शाम हो गयी दिन ढलते ढलते ||
थक गया हूँ अब अंधेरों में चलते चलते ||
लेकिन फिर भी मेरा प्यार अभी बाक़ी है ||