कोई मुझको बचाने की कोशिश में लगा है | Sad Shayari in Hindi

कोई मुझको बचाने की कोशिश में लगा है | Sad Shayari in Hindi

Sad Whatsapp Shayari Hindi

डूबा हूँ  मै फिर से खयालो के समंदर में ,
कोई मुझको बचाने  की कोशिश में लगा है
ये नासूर है इस दिल का कोई भुला हुआ
जिसे कोई ढूँढ कर के  दुखने में लगा है

मुझे सब कहते है संभल जा की कहीं कदम बहक न जाए
हमें इंतज़ार है  तेरी खुशबू से जब तक हम महक न जाएँ
हर शक्श ज़माने का सही राह बताने में लगा है
डूबा हूँ  मै फिर से खयालो के समंदर में ,
कोई मुझको बचाने  की कोशिश में लगा है

Whatsapp Shayari Hindi

अनजानी सी महफ़िल में बसेरा की तलाश है मुझको
मायूस जीवन से भी अब तक क्यों कोई आस है मुझको
मेरी तकदीर मुकम्मल है वही जताने में लगा है
डूबा हूँ  मै फिर से खयालो के समंदर में ,
कोई मुझको बचाने  की कोशिश में लगा है

Meri ankhon mein thodi nahi reh gayi

Love Poem from Deep loving heart

जब मैंने अपना पहला प्यार खो दिया, तो मुझे लगा था कि मेरी भावना को एक ऐसी कविता (Love Poem from Deep Loving Heart) के रूप में लिखा जाना चाहिए जो मेरे विचारों में सबसे अच्छी तरह लिखी गई है। जब किसी के पास कोई अपना खो जाता है तो आपको इतने लंबे समय से ऐसा लगता है कि जीवन खत्म हो गया है। कोई लक्ष्य नहीं, कोई सपना नहीं है, केवल अकेले पूरा करने के लिए एक बड़ा रास्ता मिलता है।

आप कुछ कहना चाहते हैं लेकिन आप कह नहीं सकते क्योंकि आप जानते हैं कि कोई भी आपको सुनना पसंद नहीं करेगा। भाग्य हर किसी से सबसे प्यारी चीज छीन लेता है, जिसके साथ आप अब तक ज़िंदगी जी रहे थे और भविष्य के लिए इतनी सारी चीजों की योजना बनाई थी। जब आप स्वयं की वजह से कुछ नहीं करते हैं, लेकिन आपको दूसरों के लिए कार्य करने की ज़रूरत होती है, तो जाहिर है कि कुछ दर्द आपकी भावनाओं को प्रभावित करते हैं । आप जिंदगी जीना बंद कर देते हैं जब आपका प्रेमी आपसे छीन जाता है या खो जाता है| आपको रोने के लिए कन्धा नहीं मिलता, और ख़ुशी बाँटने के लिए कोई इंसान भी आपके पास नहीं रहता| यह कविता बहुत आसानी से इन सभी भावनाओं को बहुत ही अच्छे तरीके से वर्णन करती है।

Love Poem from Deep loving heart


मेरी आँखों में थोड़ी नमी रह गयी
ज़िन्दगी में बस तेरी कमी रह गयी
******
थे जो अरमान दिल के तबाह हो गए
देखे थे जो सपने फ़ना हो गए
एक हसरत थी मेरी तुझे पाने की
ये हसरत भी अश्कों के संग बह गयी
मेरी आँखों में थोड़ी नमी रह गयी
*******
खिले फूल दिल जो तेरे नाम के
जो छूना उन्हें चाहा भला जान के
फूल मुरझा गए कांटे ही रह गए
खेल तकदीर का देख मेरी रूह कह गयी
मेरी आँखों में थोड़ी नमी रह गयी
******
ऐसा खंजर ज़माने से हमको मिला,
खून बहता रहा दिल भी चलता रहा
हम दोनों में थोड़ी दूरी रह गयी
अब तो मायूस जीवन और मजबूरी रह गयी
मेरी आँखों में थोड़ी नमी रह गयी
ज़िन्दगी में बस तेरी कमी रह गयी


Love Poem from Deep loving heart


When I lost my first love I felt to write my feeling in the form of a poem which written best of my thoughts. When someone near one is lost you get so long that it seems life get to finish. There remains no aims, no dreams, just a big path to be covered lonely. You wish to say something but you can’t because you know now there is no one to hear you.

The fate snatch everything in form of the dearest one, with whom you lived life till now and planned so many things for future. When you are not taking action because of yourself but you need to act for others goodwill then obviously some pain hits you own feelings. You stop living life at the moment when your beloved is invisible to you, you could not find the shoulder to cry on, joys to share with and care yourself for someone special. This poem very easily describe all this emotion in very nice way.


Love Poem from Deep loving heart

There was some moisture in my eyes
You just lost your life
******
The wishes of the heart were devastated
Who had dreamed
I was in a hurry to get you
This person also lost with asses
There was some moisture in my eyes
******
Flower bloomed in my heart for your name
Who would love to touch them
Flowers are only lost to thorns
The game’s fate was called as my soul
There was some moisture in my eyes
******
Such a dancer has got us from time to time,
Heart bleeding continued
We were a little distance between the two
Now the life is in desolation and compulsion
There was some moisture in my eyes
You just lost your life