कोई मुझको बचाने की कोशिश में लगा है | Sad Shayari in Hindi

कोई मुझको बचाने की कोशिश में लगा है | Sad Shayari in Hindi

Sad Whatsapp Shayari Hindi

डूबा हूँ  मै फिर से खयालो के समंदर में ,
कोई मुझको बचाने  की कोशिश में लगा है
ये नासूर है इस दिल का कोई भुला हुआ
जिसे कोई ढूँढ कर के  दुखने में लगा है

मुझे सब कहते है संभल जा की कहीं कदम बहक न जाए
हमें इंतज़ार है  तेरी खुशबू से जब तक हम महक न जाएँ
हर शक्श ज़माने का सही राह बताने में लगा है
डूबा हूँ  मै फिर से खयालो के समंदर में ,
कोई मुझको बचाने  की कोशिश में लगा है

Whatsapp Shayari Hindi

अनजानी सी महफ़िल में बसेरा की तलाश है मुझको
मायूस जीवन से भी अब तक क्यों कोई आस है मुझको
मेरी तकदीर मुकम्मल है वही जताने में लगा है
डूबा हूँ  मै फिर से खयालो के समंदर में ,
कोई मुझको बचाने  की कोशिश में लगा है